The education system of Indian Institute of Technology(s) is soon to be revamped in the upcoming IIT Council meeting.

 

 
The meet will be organized by the Ministry of HRD on August 21 and a proposal will be discussed stating that Joint Entrance Exam (JEE) Advanced will soon be junked-out.

 

 
 

According to an Indian Express report of June 23, the matter of JEE Advanced and its difficulty level is expected to be discussed.

​JEE Main से हो सकता है आई आई टी में दाखिला 
 
 
इकनोमिक टाइम्स के हवाले से ये खबर पहली बार आये की २१ अगस्त को आई आई टी council की मीटिंग में JEE Advanced को खत्म करने पर होगा विचार 

AIM OF THE PROPOSAL

The idea of Revamping Engineering Education and Returning Childhood to Students is aimed at checking the multi-million IIT coaching industry and to take IIT-level teaching to more students.

 

 

WHAT DOES THE PROPOSAL INCLUDE?

Removing flagship Bachelor of Technology courses at IITs.
Converting IITs into high-end institutes that offer post-graduate education.
IITs and other top institutions may admit students from the top bucket without any further tests or interviews. 
Students who spend a semester at IITs will get degrees issued by their universities.
These students will also get preferential admission into IITs to do MTech degree -- provided they complete their bachelor’s degree with high marks.
Under the proposal, a student will be allowed to choose the campus of his/her choice and not the course at the time of seeking admission.

What More

Admission in IIt can be based on JEE Main scores only. The top candidates of JEE Main can be admitted to the IITs without any further tests or interviews. Also, the idea adds that the JEE main results should classify all candidates into 10 groups based on marks range with all students in one range (say 80%-90%) treated as equal.

IITs are basically working towards transforming themselves into high-end education provider of the nation and this idea is in that regard. Now, as per this idea, the B.tech programme at IITs is to be changed with one semester IIT experience.

Admission to this semester-long experience into IITs will be for the 5th, 6th, 7th and 8th semesters of the B Tech programme (i.e., for the third and fourth year) and will be based on the performance in an examination based on NPTEL (National Programme on Technology Enhanced Learning).

Students will enroll in this one semester IIT experience, will get degrees issued by their universities which explicitly mention the IIT semester experience. Such students will also get a preferential admission into IITs to do an M.Tech degree, given that they complete their bachelor’s degree with high marks.

NO COMMENT ON THE IMPLEMENTATION

According to HRD ministry sources, the idea would be highlighted in the meeting but the officials did not comment on the feasibility of its implementation.

 

 
 
क्या है मूल बिंदु -
 
१. JEE एडवांस्ड को ख़त्म कर किसी एक परीक्षा से  के आधार पर ही आई आई टी में दाखिले के मसौदे पर विचार 
 
२. BTech के बजाय पोस्ट ग्रेजुएशन और higher डिग्री पर जोड़ 
 
3.विद्यार्थी  आई आई टी में निर्धारित सेमेस्टर कर अपने यूनिवर्सिटी से डिग्री लेंगे 
 
4. एडमिशन के समय विद्यार्थी अपना कैंपस चुन सकते हैं ब्रांच नहीं 
 
क्या है मायने विद्यार्थी के लिए 
 
१. पढाई यथावत जारी रखें 
२. सिलेबस में परिवर्तन नहीं होता है 
३. डिफीकल्टी लेवल में परिवर्तन आ जाएगा पर सिलेक्शन ओवरआल टॉप १०००० से १२००० का होगा और जनरल केटेगरी में 5000 का होगा 
४. अगर JEE main के आधार पर होगा तब एन आई टी के टॉप ब्रांच और मुश्किल होंगे -इसलिए २०२० वाले खासकर समझ बना कर रखें ​ 
5 . खबर पर नजर रखें पर स्कूल एवं कोचिंग की पढाई पर एकाग्रचित करें 
 
क्या हुआ है पहले 
.१. हर ४-६ साल में परिवर्तन होते है हो सकता है ये भी हो पर जब तक अधिसूचना  न जारी हो ऐसे एडुटेनमेंट श्रेणी में रखें 
 
३. २००७ में एक परिवर्तन आया था  , २०१३ में two tier सिस्टम आया पर  टॉप रैंकर्स का ही दाखिला पहले हुआ आगे भी वही होगा -अपने बेसिक पर ध्यान दें और किस केटेगरी में हैं उसी की तयारी करें 
 
क्या असर होगा कोचिंग पर 
 जब जब इस तरह के प्रयास होंगे कोचिंग में भीड़ बढ़ती है 
२०१९ से लेकर २०२२ के जो टॉप 1000 रैंक के स्टूडेंट होंगे उनमे 90 % से ज्यादा विद्यार्थी कोचिंग में पढ़ रहे हैं और उनके रिजल्ट देखकर नया वर्ग फिर वहीँ जाएगा 
 
साइकोग्राफिक सोसाइटी मत -
 
१. JEE एडवांस्ड का लेवल ऐसा हो की विद्यार्थी इंटरनेशनल मानदंड पर खरे उतारते रहे   आई आई टी के लेवल को भी करें उद्देश्य यह हो -ऐसा कुछ भी न हो की इंटरनेशनल स्तर पर रूतबा में कमी आये. 
 
2 . टॉप लेवल पर प्रेशर कम नहीं हो सकता पर हर विद्यार्थी उसके पीछे भागे ऐसा माहौल बनाने से रोकने का काम हो  
 
३ . कोचिंग  बच्चे को लाने में इसलिए सफल है - toppers वहीँ से निकलते हैं -
 
४ . आई आई टी को पैकेज के हाइप को कम करने में आगे कदम उठायें -स्पष्ट रूप से बताया जाय की १० लाख से ज्यादा कितने % बच्चे को मिलता है न की करोड़ और ५० लाख का पैकेज 
 
५ . कोचिंग को भी स्पष्टता से बताना चाहिए की जनरल केटेगरी में १०००/२००० /५००० रैंक में कितने है - JEE main और JEE एडवांस्ड 
 
 

ABOUT IIT COUNCIL

The IIT Council is the governing body responsible for all of the Indian Institutes of Technology.

The IIT Council comprises the minister-in-charge of technical education in the Union Government (as Chairman), three Members of Parliament, chairmen of all IITs, directors of all IITs, Chairman of the University Grants Commission, Director General of CSIR, the Chairman of IISc, Director of IISc, Joint Council Secretary of Ministry of Human Resource and Development and three appointees each of the Union Government, AICTE (All India Council for Technical Education)

Comment

Our Products

IIT Pre Counselling
₹ 5000
JEE Main Multi State Rank Counselling
₹ 5000
Engineering Entrance information Counselling
₹ 1000
VIT-SRM-MANIPAL-KIIT-PESAT Rank Counselling
₹ 5000
Get Free Exam/Admission
Notification

News & Notification